dayra

Tuesday, 27 September 2011

आशा n Effusion.......

सुनसान  पगडंडियों  पर  वो  चलता  जा  रहा  था  !
बारिश  की  बूंदों  में  भी  वो  जलता  जा  रहा  था !


bahav vicharo ka
विचारो का झगड़ा अब बढता जा रहा था ,
मालूम  नहीं  वो  मंजिल  कितने  दूर  है!

आकाश  तो  है  इस  समंदर  के  ऊपर;
पता  नहीं  जमी  किस  छोर है  !

उम्मीदों  का  दिया  आशाओ से  जिया ;
धेर्य  का  तेल अब घटता जा रहा था !



होसलों  से  जंग जीतते है मालूम है उसे ;
पर  होसला  ही  होसला  खोये जा रहा था !

उड़ने की कला तो  आती  थी उसे ;
पर स्वप्न लोक में कोहरा छाए जा रहा था !

चलते  चलते  गिरता  फिर  उठता  वो ;
लड़खड़ाते  पैर  पर  वो  चलता  जा  रहा  था!

पूरब   की  और  से  क्या  देखता  है  वो ;
एक  बार  फिर  सूरज  उगा  आ  रहा  था !

आशा  जगी  उठा , कमर  कसी   फिर  ;
पोछा आँखों से नीर, भरे तरकश में तीर ;

निशाना  लक्ष्य  पर  वो  साधे  जा  रहा  था !
चलना  ही  जिंदगी  है  वो  गाए  जा  रहा  था !


हार को हराने की योजना बनाये जा रहा था !
कर्म की धरती पर मेहनत के बीज बिछाये जा रहा था !

आँधियों   में  भी  दिए  जलाये  जा  रहा  था !
जीत  जायेगे  हम  गुनगुनाये  जा  रहा  था !



ये  कोई  कविता नहीं , ये एक सच्चाई है ! जिसे मैंने जिया है , जैसे  उम्हड़ता सा ज्वार सागर के शांत तन पर उत्पात मचाता है ! वैसे ही कोई समय का क्षण मेरे मन को द्रवित कर गया था !.........पर फिर वो कभी नहीं आया !!!!! कभी नहीं ...

12 comments:

  1. great thoughts yaar.................lets try again & again success is near about u..........best of luck

    ReplyDelete
  2. it is great .... marvelous such a different very congratulation to you sir ....mark my words u r out of the box....best of luck

    ReplyDelete
  3. भावनात्मक काव्य .... !

    ReplyDelete
  4. ऐसी कवितायें रोज रोज पढने को नहीं मिलती...इतनी भावपूर्ण कवितायें लिखने के लिए आप को बधाई...शब्द शब्द दिल में उतर गयी.

    ReplyDelete
  5. पहली बार पढ़ रहा हूँ आपको और भविष्य में भी पढना चाहूँगा सो आपका फालोवर बन रहा हूँ ! शुभकामनायें

    ReplyDelete
  6. This is a poem which works like a magical rod for a person who is in real darkness..... so its really perfact as its name ( aasha n effusion )

    ReplyDelete
  7. आशा जगी उठा , कमर कसी फिर ;
    पोछा आँखों से नीर, भरे तरकश में तीर ;

    निशाना लक्ष्य पर वो साधे जा रहा था !
    चलना ही जिंदगी है वो गाए जा रहा था !

    Sundar, chalakti bhavnayein.

    My Blog: Life is Just a Life
    My Blog: My Clicks
    .

    ReplyDelete
  8. अनुभूति को सुन्दरता से समेटा है!

    ReplyDelete
  9. really a nice one simply loved it:))

    ReplyDelete
  10. कर्म कि धरती पर मेहनत के बिज बोये जा रहा था -- वाह क्या बात है !!!!

    ReplyDelete
  11. उम्मीदों का दिया आशाओ से जिया
    धेर्य का तेल घटता जा रहा था ----अति सुन्दर

    ReplyDelete