dayra

Wednesday, 17 July 2013

खामोशी...!!!

उसके टूटने से बिखरने तक ,
रूठने से मुकरने तक ,
देखा है मेने हर पल को !

पर सुना नहीं क्या कहा उसने ,
कई राते जाग कर काट ली !
कई बातें खुद से बाँट ली !

अंजान अब तक क्या बातें हुई ,
मेरे और मेरे बिच ......

पर जो दूर जा चुके है !
लड़खड़ाते कदमो  की पहुच से ,
नहीं चाहिए , अब कभी वो दोस्त !

लोगों को लगता है पत्थर के ,
दिल में अरमान नहीं होता !
अब मुझे गुस्सा नहीं आता यार !

उसकी खामोशी से सुबकने तक ,
उसकी बदहाली से भटकने तक ,
देखा है उसकी मनमानियों को ,
पर वो बैमानी नहीं थी !

औ गुजरी हुई रातों के ख़ामोश लम्हों ,
अब वापस मत आना !
जो अँधेरे में भी साथ था !
वो मन का प्रकाश अब भी है !
तेरी इर्ष्या के दाग अब भी है !
तकलीफों में मिला जिंदगी का राज अब भी है !!!

22 comments:

  1. Awsmm.....
    Isko Pad K Koi b insaan emotional ho jayega..
    very nicely written ( dil ko chune wali poem)
    really

    ReplyDelete
  2. thank you vandevii very much

    ReplyDelete
  3. आपकी कविता बहुत दिनो बाद पढ़ने को मिला । आपकी कविता की मैं सदा ही प्रशंसक रही हुँ । ये भी बहुत ही सुन्दर लगा...विशेषत शेष पंक्ति मन को छु गयी ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. thank you didi aapne bhi bade din baad darshan diye

      Delete
  4. Replies
    1. nandkishore bhai aapke protshahan ka natija hai ye sab
      dhanyawad

      Delete
  5. औ गुजारी हुयी रातो के खामोश लम्हों अब वापस मत आना --बहुत खूब

    धन्यवाद बिरला जी बहुत दिनों के बाद कुछ पढने को मिला

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर रचना ,

    ReplyDelete
  7. वाकई में तकलीफों में ही जिंदगी का राज छुपा होता है...
    बहुत बढ़िया..

    ReplyDelete
  8. सुंदर रचना.....

    ReplyDelete
  9. खामोशी आती है तो बहुत देर तक रहती है ...
    एहसास लिए गहरी रचना है ...

    ReplyDelete
  10. अंतर्मन के कपाटों पर दस्तक देती मार्मिक प्रस्तुति

    ReplyDelete
  11. वक्त के साथ पत्थर दिल को भी पिघलते देर नहीं लगती ...
    बहुत सुन्दर मर्मस्पर्शी रचना

    ReplyDelete
  12. खामोशी, बहुत ही सुंदर रचना।

    ReplyDelete
  13. खामोशी, बहुत ही सुंदर रचना।

    ReplyDelete