dayra

Wednesday, 14 November 2012

अनचाहा मुकाम...!


भटकते हुए भटकने का रास्ता ढूंढ़ लिया अब तक भटकते थे बेरास्ते अब रास्तों पर भटकना सिख  लिया !!
हर रास्ता अनजान बेखबर मेरी चाल से , मै क्या चलता उसके साथ उसने मेरे कदमो से कदम मिलाना सिख लिया !!
पथरीली राहों में कुछ फूल भी है ; छालों की तपन में काटों का साथ निभाना सिख लिया !!
इस संगीत मयी दुनिया में यु तो बेसुरे है हम पर रास्तों का सन्नाटा रास नहीं आया और गुनगुनाना सिख लिया !!
मुक्केबाज़ी के खेल में जिंदगी बसती है मेरी, हर मुक्का मर कर तो बहुत खुश हुआ दांत तुड़वाकर मुस्कुराना सिख लिया !!
अब भी जीता हूँ सपनों के जहान में , कुछ हसिन कुछ खोफनाक है मगर हर ख्वाब से नजर मिलाना सिख लिया !!
उचाईयों को आँखों के निशाने पर रख कर , गहराई में डूब कर उभारना सिख लिया !!
गुजर गया कारवां , खो गए मुसाफिर समय की पगडण्डी पर , तन्हा ही सही खुद का साथ निभाना सिख लिया !!
सहारे अक्सर कमजोर बना देते है पथिक को , अपनी कमजोरियों का सहारा बन जाना सिख लिया !!
आजादी प्यारी होती है हर परिंदे को आकाश की उचाईयों का सुख पाने को कुछ पल गुलाम कहलाना सिख लिया !!
हार जीत का खेल है जिंदगी की जमी पर हर लम्हे की करवट , कभी जीत कर हारना तो कभी हर कर भी जीत जाना सिख लिया !!
मन की आग बुझाने के साधन है अनगिनत जलाने के शौक ने कलम से अंगारों को दहकाना सिख लिया !!

हर ठोकर को सिख समझना सिख लिया !!

Saturday, 30 June 2012

चल चले इन बेनाम बस्तियों से!!!



कल रात के सुनसान शौर में ... भावनाओं की हिलोरे में मै कुछ इस तरह बह गया !! 



इस बिखरे अँधेरे में मै हूँ और मै ही हूँ इस जगह ;
सरसराती सी ठंडी हवा और मुझे चिड़ाते से ये झींगुर ;
ये जामुन का पेड़ शांत खड़ा है और बेखबर है दाड़िम भी ;
अलसाये कुत्ते ने भोकना बंद कर दिया है जिसे मै अपना दोस्त कहता हूँ 
रात का तीसरा पहर है अभी पर ये कोए क्यों परेशान है;
सुनसान सड़क पर मेरे मन का शौर जाने कब होगी भोर ;
बस मेरे ही पदचाप है सन्नाटों को चीरते हुए टक, टक टक ;
आषाढ़ की रातों को ये बादल और भी काली बना देते है 
न चाँद न तारे न बिजली का प्रकाश ,
सचमुच नील नहीं श्याम है आकाश ;
मै क्यों चल रहा हूँ ? कैसे चल रहा हूँ ? प्रश्न है ये खाश !!
धुंधला रहा है मेरे मन का प्रकाश !!!!!!
अरे तिन कुत्ते और आये मुझे देखा और गुर्राए ;
पर मेरे दोस्त ने उन्हें कुछ एसा कहा की वो सकुचाये ;
शायद कहा हो दोस्त ने की ये भी दोस्त है हमारा ;
और वो भी  मेरे साथ चलने लगे !!
बहुत देर चलने के बाद भी सड़क का अंत न आया !
मेरा मन मुझे वापस खीच लाया ;
कहा "चल चले इन बेनाम बस्तियों से  " अभी इन्हें नाम देना बाकी है !!!!

Wednesday, 14 March 2012

सृजन : A Path !!!


सत्य तो यह है की मै माफ़ी चाहता हूँ ; क्युकी मुझे अब तक समझ नहीं आ रहा है की क्या ये कोई कविता है !!
पर अब कुछ लिख दिया है तो पोस्ट भी कर दिया ...उम्मीद है ..क्षमावान पाठक क्षमा तो करेगे ही साथ ही आशीष वचन भी कहेगे !! ताकि मुझ अज्ञानी को कुछ अपनी गलतियाँ जानने का मोका भी मिले !!

जब किसी रात मुझे नींद नहीं आती ;
जब कोई बात मुझे भूल नहीं पाती ;
भटकता पहुच जाता हूँ रास्तें अनजान में; 
टूटता कुछ नहीं आवाज आती है पुरे जहाँ में ;
किसी खून के कतरे में उबाल है इतना ;
की सारी दुनिया को जला दे !
किसी आंसू में प्रवाह है इतना ;
की  इस जग को डूबा दे  !


धड़कने बडती है सांसे उखाड़ने लगती है ;
उम्मीदें फिर गुनगुनाने लगती है ;
ले खडग तेयार मन हो जाता है बावला ;
धीर और गंभीर बुद्धि संभालता है मामला;

फिर 
शांत रस में डूब कर जब भाव अपने कहता हूँ में ;
उलझी हुई इस दुनिया में सहज ही बहता हूँ मै;


रात लम्बी कट गयी पर आँखें अब भी तेज है !
इनमे सवेरा देखने का भरा हुआ उत्तेज है !


मन मेरा कहता है देख जो तू चाहता ;
मिलते मोती उसी माझी को ;
सागर के ह्रदय में जो झाकता ;


बेडी गर हो सोने की भी तोड़ दे झकझोर दे !!!
तू विचारों से निराशा का विष अब निचोड़ दे !!!

Thursday, 8 March 2012

Storm in मस्तिष्क !!!


ये सन्नाटा अंत नहीं शुरुवात है ;बाकी है शंखनाद रणभेरी का !!

अभी  इक  उड़ान बाकी है ; अभी सिने में जान बाकी है !
उड़ने दो धुल को, शहर पास नहीं ; अभी बियाबान बाकी है !
जरा देख लू पैरो को थपथपा कर, मजबूती जमीन की ;
सितारों को छुकर लौटने का अरमान बाकी  है !
अभी इक उड़ान बाकी है !! 

नदियों को लांघा तो क्या हुआ ; सागर के तटों का माप बाकी है !
कुछ अनसोयी रातों में देखे जागते हुए से ख्वाब ; वो ख्वाब बाकी है !
कच्ची सड़कों पर दौड़ता था सवेरे के लिए अभी सूरज का आगाज बाकी है !
पल भर ठहर गया तो क्या हुआ ; अभी मन का उन्माद बाकी है !
अभी इक उड़ान बाकी है !!

दोस्त ! तेरे शहर में अँधेरा बहुत है ; तुने देखा ही कहा है ; दीये का कमाल बाकी है !
यु तो हम बेढंगे है ज़माने के लिए ; पर जमाने अभी बेढंगो की चाल बाकी है !
देख मत हवा का रुख ये और रोकेगा तुझे ; रुक मत अभी तूफ़ान बाकी है  !
पैर जमा ले मतवाले जरा  ;अभी मिट जाने का अरमान बाकी है !
अभी इक उड़ान बाकी है !!

संभलते हुए देख आकाश को, गिरना नहीं ठोकरों से ;
अभी पूरा आकाश बाकी है 
इन बादलों को छटने की देर है , थोड़ी ही दूर सवेर है ; 
अभी प्रकाश बाकी है , मेरे हृदय में श्वास बाकी है ;
पतंगे  तो कई कूदे है आग में ; अभी प्रल्हाद बाकी है !
अभी इक उड़ान बाकी है !!

लड़े है लडाईया अब तलक खुद के लिए ; खुदा  पर लूट जाये वो इमां  बाकी है ! 
अभी  इक  उड़ान बाकी है ; मेरी धरती का सम्मान बाकी है ! 
बाकी है तड़प तड़प कर मरना ; मेरा बनना अभी  इंसान बाकी है !

Monday, 20 February 2012

जिंदगी कभी कभी !!!


आवारा आवारा सी हो गयी है तू ;
कभी हसती तो कभी रूठ जाती है !!
मै एक डगर तो दूजी चुन लेती है तू ;
जिंदगी कभी कभी इनी बेवफा क्यों है तू ?


बेखबर अनजानी सी हो गयी है तू ;
सवालों सी सच्ची जवाबों सी झूटी ,
वादों सी पक्की ख्वाबों सी कच्ची ;
जिंदगी सच्ची झूटी सी फिर भी प्यारी सी क्यों है तू ??

भूली    बिसरी  सी  कभी  मिसरी  सी  हो  गयी  है  तू ; 
भूलना  चाहू   जिन  लम्हों  को  फिर  याद  दिलाती  है !
और याद करना चहुँ तो रुलाती है तू ;
जिंदगी तू कभी कभी इतनी न्यारी क्यों  है ? 

प्यारी प्यारी सी हो गयी है तू ,
चाहत सी खिल जाती है चेहरे पर ;
कभी धुन बनकर लबों पर थिरकती नजर आती है तू !
मोहनी मूरत सी छा जाती है आँखों में ;
जिंदगी कभी कभी इतनी प्यारी क्यों है तू ?

कभी  वादें  करती  है  साथ  निभाने  के , 
हर मुस्किल में मेरी और हाथ बढाती है !
कभी माँ जैसे गौदी में उठा लेती है ;
तो बाबा की तरह कंधे पर चड़ा लेती है ;
दादी सी पल्लू की गाठे खोलती है !
कभी नानी सी प्यारी बातें बोलती है तू ;
जिंदगी कभी कभी तू इतनी अपनी क्यों है !

कभी दूर ले आती है अपनों से ;
मिला लती है सपनों से ;
रंगीन कभी बेरंग लगती है ;
कभी शुरुवात कभी आखरी शाम लगती है !
फुरसत में भारी कभी तू बेगानी लगती है !
जिंदगी व्यस्त व्यस्त सी हो गयी है तू ;
एक बात तो बता तू जैसी भी है !
इतनी प्यारी क्यों है ???

Friday, 27 January 2012

बर्फीली रात में दीपक राग !!

The messenger of peace


कुछ लोग आते है,
न सहते है न वो सताते है;


रोते को हंसाते है लड़ना सिखाते है;!
बस जागते है और सबको जागाते है !
नींद भगाते है ..!


एसा ही कोई आया था !
हर दिल में गहराया है !


अब तो हमारे खून में उतर गया है वो;
जो थी सड़ी हुई जड़े कुतर गया है वो;


अधिकारों से पहले कर्तव्यों की बात कर गया वो;
छोटे छोटे पर फुर्तीले कदमो से चलता था !
साथ साथ चलना सिखा गया वो ;
न धर्मं न धार्मिक श्री कृष्ण के वचन दोहरा गया वो ;

बड़ी विनम्रता से करता था विरोध ,
बड़े बड़े जनरलों को डरा गया वो ,


एक समय की बात है दक्षिण अफ्रीका की रात है !
उस रात रेल के डिब्बे में अन्याय से भिड़ गया वो ;
सत्य के साथ आग्रह एसा था की हर दिल में रह गया वो ;


सच की तलवार लेकर वीरों सा लड़ता था वो ;
निडर योद्धा अहिंसा की पूजा करता था वो ;
धीमी सी आवाज में सियासते उखाड़ गया वो ;
बिना कुल्हाड़ी उठाये बबूलों का जंगल उजाड़ गया वो ;


कहते है उसने ह्रदय के खून से सीचा है इस गुलशन को ;
अपनी मजबूत बाँहों में भिचा है इस गुलशन को ;


कहते है उसे लोग बापू , शांति और अहिंसा का पुजारी ;
हर उपाधि को परिभाषित कर गया वो ;


लोग आते है , दिलों में बस जाते है , जीना सिखा जाते है !!

Saturday, 14 January 2012

An Expressed Wish : खबर !


कुछ कदमों का साथ था उसका !!सबसे प्यारा अंदाज था उसका  !!



हे इश्वर! ये गुस्ताखी  ही सही पर क्या मै पूछ  लू !
कोई  मेरा  जो  अब तेरे  आशियाने  में  रहता  है !
मेरे  सपनों  के  सागर  में  बहता  है !
पुछु तो होगी नादानी न पुछु तो बेईमानी लगता है !
वो कैसा है  की खुश तो है ; तुझे  कुछ तो कहता है !



साये में जगत पिता के है,सोच कर मै चैन की नींद लेता हूँ !
वो चमकती आँखें देखना चाहूँ मै आँखें मूंद लेता हूँ !
आये जो पलकों पर उससे पहले ही आशुओं में सपने गुंद लेता हूँ!

हे  खुदा ! उसकी  नजरों  में  ही  रहना ;
वो  अपनों  को  न  पाकर  जरा  मायुश  रहता  है !
अगर  कर  दे  कोई  खता  तो  मुझे  देना  बता
सजा  के   लिए  तेयार  रहता  हूँ !

हे  इश्वर  ये  गुस्ताखी  ही  सही  पर  क्या  मै  पूछ  लू 
वो  है  जरा  नटखट  , कभी  नाहक  नाराज  होता  है !
वो  मुझसे  तो  न  छुपाता  था  कुछ  भी ;
क्या  तेरा   भी  हमराज  होता  है 
उसे  हर  बात  को  मनवाने  की  आदत  है ; रूठ  कर !
क्या  वहा  भी  रूठ  जाता  है !
एक सवाल है वो पूछता है जो   
तुझे उससे प्यार है कितना, बता देना वो कहे जितना 

हे  इश्वर  ये  गुस्ताखी  ही  सही  पर  क्या  मै  पूछ  लू 
वो कैसा  है  की  खुश  तो  है !
वो  तुझे  कुछ  तो  कहता  है !


सुना है तेरी गौद में किसी को किसी की याद नहीं आती है !!
पर उसे कहना तू चुपके से वो मेरे मन से नहीं जाती  है !!

उससे   कहना  मज़े  मे  है  हम ,बस  ज़रा यादें सताती है !!
उसकी दुरी का गम नहीं मुझे ,बस ज़रा आँखे भीग जाती है !!

Monday, 9 January 2012

The flow of जिंदगी..!!



हर बार पिघलती है !
हर रात ,हर सुबह पिघलती है !

हर पल , समय की सुई ;
रेत सी फिसलती है !


क्या खोया , क्या पाया ,
सोचे हम अगर ,
मन से विचारों की 
एक नदी निकलती है !

कुछ याद के कतरे है !
कुछ जख्म दुखते से 
कुछ खुशियों के है पल 
जो पल में गए निकल 
हर बार पिघलती है !


उलझे उलझे से 
कुछ सवाल पिघलते से 
और जवाब बिखरते से 

सिमटे है कुछ राज 
करना है आगाज 

कुछ खोया है मैंने 
कुछ पाया भी तो है !
हर बार पिघलती है !

हर पल , समय की सुई 
रेत सी फिसलती है ...!!!!!!

Sunday, 1 January 2012

I Am भारतवर्ष !!

मैंने  अपने आँचल में आग सुलगते देंखी है !
अपने बेटो की लाशों को फंदों पे लटकते देंखी है !
आंदोलनों की आंच में हड्डीया चिट्कते देंखी है !
मै  भारत  वर्ष  हूँ !!


देखा है मैंने अपने ही साये को बटते;
अपने बेटों को काटते अपने ही बेटों को कटते देखा है !
हर धर्मं को अपने आँचल ने पाला है मैंने ;
इन्ही धर्मान्धो को मेरी गोद उजाड़ते देखा है !
मै भारतवर्ष हूँ !! 

मंगल पाण्डेय की ललकार, लक्ष्मीबाई की तलवार को देखा है !
मैंने देखा है खुदीराम का मेरी आन पर मिट जाना;
अशफाक का इमान देखा है !
मै भारतवर्ष हूँ !!

देखा है मैंने युनियन जैक को उतरते  
लाल किले की ऊँचाइयों पर तिरंगे को फहरते देखा है !
मैंने राजघाट पर किसी अपने को बिखरते देखा है !
मै  भारतवर्ष  हूँ !!

मैंने तो एक सी जमी दी नदी दी ;
फिर भी जात धर्मो को लड़ते देखा है ....!

संविधान को बनते देखा है !
दबी सहमी आवाज से विरोध का स्वर उभरते देखा है !
याद है, मुझे वो नक्शलवाड़ी का मंजर;फिर से ..
विद्रोह को सुनसान गलियों से गुजरते देखा है !

कुछ नहीं छुपा है मुझसे सफ़ेद कुरते वालो ;
दुधिया सफेदी पर अनदेखे दागों को देखा है !
मै  भारतवर्ष  हूँ !!

गौदमो में भरे आनाज को नेताओ के राज को ;
मेने बच्चो की भूख और भूखो की लाश को देखा है !

काली रात को गुजरते सुबह को सवारते देखा है !
मैंने चन्द्रयान को आकाश की ऊंचाई को छुते ;
और ब्रमोश से आकाश को भय खाते देखा है !
तकनिकी में मेरे बच्चो के सामने ;
दुनिया को झुकते देखा है !
मै  भारतवर्ष  हूँ !!

देखा है मेरे बच्चो को मेरी रक्षा में लड़ते हुए ;
उनके ही कोफिनो पर खाई दलाली को देखा है ! 
देखा है चारा अनाज और चावल खाते हुए ;
बोफोर्स और तकनिकी को चबाते देखा है ....!

मै  भारतवर्ष  हूँ !  
मैंने अर्जुन का बाण ,अशोक का मान
और अकबर का ज्ञान देखा है !
श्री कृष्ण का प्रबंधन चाणक्य का गठबंधन ;
पोरश का संघर्षण देखा है ....!

मै  भारतवर्ष  हूँ !!
मै  भारतवर्ष  हूँ !!